Disadvantages of using Toothpick

0
27
Disadvantages of using Toothpick

A habit of scratching teeth can be fatal. It is addicted to excessive use and the size of toothpick increases daily. Removal of food particles trapped between teeth by metallic toothpick can also cause tetanus, which proves to be fatal from time to time.

Are toothpick considered to be safe for teeth?

Many people argue that the toothpick is a means of extracting food grains trapped between teeth, just as the toothbrush cleans the teeth. While arguing this, they forget that the toothpick damage the gums and the space between the teeth also increases.  After the damage of sensitive tissues of the gums, it is difficult to save the tooth. There is also a risk of cancer.

Why food stuck

Most fibres in food are trapped in the space between teeth. This problem is more common with non-vegetarians. Apart from this, if the gums are not kept in mind beforehand, gums tend to shrink. Due to this, the tooth is escape by gum grip. For this reason, when the gap between the teeth increases, the fibres start getting entangled.

When the food trapped in the teeth

The first feeling of trapping food between teeth is very sensitive to the tongue. It does its best to get rid of the food grains trapped between teeth. But even if it does not work, the patient gets restless and finds the toothpick. Even if the gums are scratched or teeth are damaged, he will satisfy after getting rid of the trapped food grains.

Why is toothpick fatal

Whether the toothpick is of wood, metal or plastic, it damages the gums. The toothpick initially looks fine, but when it is trapped between teeth in different corners every morning and in the evening, teeth begins to leave its place. Many times there is so much gap that the line of teeth starts to appear shapeless.

What is the option

The toothpick’s safest choice is Dental Floss. It is usually considered safer than toothpick. Although not used properly, it can also cause serious damage to the teeth and gums, but it is also a great tool if doing with it properly.

How to know the problem

Many types of food items are responsible for trapping between teeth, but they are frequently stuck and you have to use toothpicks repeatedly, this is a serious matter. The advice of the dentist will be important for its diagnosis.

 

In Hindi :-
हिंदी में :-

 

टूथपिक के नुकसान

दांत खुरचने की आदत जानलेवा भी हो सकती है | इसके अत्यधिक उपयोग की लत पड़ जाती है और और काड़ी का साइज प्रतिदिन बढ़ता जाता है | मैटलिक टूथपिक या आलपिन से दांतों के बीच फंसे हुए अन्नकणों को निकालने पर टिटेनस भी हो सकता है जो प्रकारांतर से जानलेवा साबित होता है |

क्या टूथपिक दांतों के लिए सेफ माने जाते हैं ?

कई लोग यह तर्क करते हैं कि जिस तरह दांतों को ब्रश से साफ करते हैं उसी तरह टूथपिक भी दांतों के बीच फंसे अन्नकणों को निकालने का एक साधन है | वे यह तर्क रखते समय भूल जाते हैं कि टूथपिक से मसूड़े डैमेज हो जाते हैं तथा दांतों की बीच की स्पेस भी बढ़ती जाती है | मसूड़ों के संवेदनशील टिश्यूज क्षतिग्रस्त होने के बाद दांत को बचाना मुश्किल हो जाता है | जख्मी मसूड़ों को ठीक होने से पहले ही लगातार टूथपिक से कुरेदा जाए तो वहां कैंसर होने का जोखिम भी रहता है |

क्यों फंसता है भोजन

भोजन में अधिकांशतः रेशे ही दांतों की बीच की स्पेस में फंस जाते हैं | मांसाहारियों के साथ यह दिक्कत अधिक पेश आती है | इसके अलावा मसूड़ों के स्वास्थ पर पहले से ध्यान न रखा जाए तो वे सिकुड़ते जाते हैं | इसकी वजह से दांत मसूड़ों की पकड़ से छूटता जाता है | इसी वजह से जब दांतों के बीच गैप बढ़ जाता है तो वहां रेशे फंसने लगते हैं |

जब दांतों में फंसता है भोजन

दांतों के बीच भोजन फंसने का सबसे पहला एहसास अत्यंत संवेदनशील जीभ को होता है | वह अपनी पूरी कोशिश करती है कि दांतों के बीच फंसा अन्नकण निकल जाए | लेकिन इससे भी काम न बने तो मरीज एक दम बेचैन होकर काड़ी ढूंढता है | ऐसे में अगरबत्ती की काड़ी, सेफ्टीपिन, आलपिन, माचिस की काड़ी भी इस्तेमाल कर लेता है | चाहे मसूड़ों को खुरचकर या दांतों को क्षति पहुंचकर वह फंसे हुए अन्नकणों को निकालकर ही चैन पाता है |

क्यों है घातक टूथपिक

टूथपिक चाहे लकड़ी का, मैटल का अथवा प्लास्टिक का हो वह जहां मसूड़ों को क्षति पहुंचाता है वहीँ आमतौर पर यह गुटकने वाली सामग्री भी मानी जाती है | कई बार लोग टूथपिक को गुटक जाते हैं जो पेट अथवा आंतड़ियों को नुकसान पहुंचा देता है | टूथपिक शुरुआत में मरीज को ठीक लगता है लेकिन जब इसे रोज सुबह और शाम विभिन्न कोनों से दांतों के बीच फंसाया जाता है तो दांत अपना स्थान छोड़ने लगते हैं | कई बार तो इतना गैप आ जाता है कि दंतपंक्ति बेशेप लगने लगती है |

क्या है विकल्प

टूथपिक का सबसे सुरक्षित विकल्प है डेंटल फ्लॉस | यह आमतौर पर टूथपिक से अधिक सुरक्षित माना जाता है | यघपि ठीक से इस्तेमाल न करने पर इससे भी दांतों और मसूड़ों को गंभीर नुकसान पहुंच सकता है लेकिन ठीक से करने पर यह एक बढ़िया टूल भी है |

कैसे मालूम करें समस्या

कई तरह के खाघ पदार्थ दांतों के बीच फंसने के लिए कुख्यात है लेकिन ये बार-बार फंस रहे हों और आपको बार-बार टूथपिक से निकालना पड़ रहा हो तो यह गंभीर मामला है | इसके निदान के लिए दंत चिकित्सक की सलाह महत्वपूर्ण होगी |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here